Monday, April 26, 2021

भारतेंदु हरिश्चंद्र युग की कविता 1850-1900 bhartendu harishchandra yug ki kavita Poem of Bharatendu Harishchandra era

भारतेंदु हरिश्चंद्र युग की कविता 1850-1900

ईस्वी सन १८५० से १९०० तक की कविताओं पर भारतेंदु हरिश्चंद्र का गहरा प्रभाव पड़ा है। वे ही आधुनिक हिंदी साहित्य के पितामह हैं। उन्होंने भाषा को एक चलता हुआ रूप देने की कोशिश की। आपके काव्य-साहित्य में प्राचीन एवं नवीन का मेल लक्षित होता है। भक्तिकालीन, रीतिकालीन परंपराएं आपके काव्य में देखी जा सकती हैं तो आधुनिक नूतन विचार और भाव भी आपकी कविताओं में पाए जाते हैं। आपने भक्ति-प्रधान, श्रृंगार-प्रधान, देश-प्रेम-प्रधान तथा सामाजिक-समस्या-प्रधान कविताएं की हैं। आपने ब्रजभाषा से खड़ीबोली की ओर हिंदी-कविता को ले जाने का प्रयास किया। आपके युग में अन्य कई महानुभाव ऐसे हैं जिन्होंने विविध प्रकार हिंदी साहित्य को समृध्द किया। इस काल के प्रमुख कवि हैं-

  • भार्तेन्दु हरिश्चन्द्र
  • प्रताप नारायण मिश्र
  • बद्रीनारायण चौधरी 'प्रेमघन'
  • राधाचरण गोस्वामी
  • अम्बिका दत्त व्यास

No comments: