Friday, April 23, 2021

सुपरफास्ट वन लाइनर हिन्दी साहित्य हिंदी व्याकरण Superfast one liner hindi literature hindi grammar hindi sahitya and vyakaran



सुपरफास्ट वन लाइनर : हिन्दी साहित्य हिंदी व्याकर
•──────────────────────•
1. अपभ्रंश के प्रथम महा कवि- स्वयंभू
2.अपभ्रंश का प्रथम कड़वक बद्ध- पउम चरित्र -स्वयं भू (7 चौपाई के बाद एक दोहा क्रम रचना)

3.अपभ्रंश के प्रथम ऐतिहासिक वैयाकरण -हेमचंद्र
4.हिंदी के प्रथम कवि -सरहपा 9 वी सदी

5.हिंदी में दोहा चौपाई का सर्वप्रथम प्रयोग- सरहपा
6.हिंदी की प्रथम रचना- श्रावकाचार देवसेन कृत

7. हिंदी साहित्य की प्रथम रचना -पृथ्वीराज रासो चंद्र बरदाई
8. हिंदी साहित्य का प्रथम महाकाव्य- पृथ्वीराज रासो

9. हिंदी काव्य में प्रथम बारहमासा वर्णन - बीसलदेव रासो
10. किसी भारतीय भाषा में रचित इस्लाम धर्मावलंबी कवि की प्रथम रचना- संदेश रासक (अब्दुल रहमान)

11. अवहट्ठ का सर्वप्रथम प्रयोग- विद्यापति ने कीर्ति लता में
12. हिंदी के सर्वप्रथम गीतकार -विद्यापति

13. हिंदी में सर्वप्रथम मुकरियों की शुरुआत -अमीर खुसरो
14. भक्ति के प्रवर्तक -रामानुजाचार्य

15. हिंदी के प्रथम सूफी कवि -असायत
16. सूफी प्रेमाख्यान का प्रथम काव्य- हंसावली असायत

17. हिंदी का प्रथम बड़ा महाकाव्य - हंसावली( असायत )
18.हिंदी का प्रथम वक्रोति कथात्मक महाकाव्य- पद्मावत

19. हिंदी की आदि कवियत्री -मीराबाई
20. कृष्ण भक्ति काव्य का सबसे प्रसिद्ध काव्य- सूरसागर (सूरदास)
•──────────────────────•
21. राम भक्ति का सबसे प्रसिद्ध काव्य- रामचरितमानस (तुलसीदास )
22.भक्तिकाल को काव्य का स्वर्ण युग घोषित करने वाला प्रथम व्यक्ति -जॉर्ज ग्रियर्सन

23. सर्वप्रथम सतसई परंपरा का आरंभ - तुलसी सतसई
( अधिकांश कृपाराम की हित तरंगिणी को मानते हैं)
24. रीति काव्य का सर्वप्रथम ग्रंथ -हित तरंगिणी -कृपाराम

25. खड़ी बोली में लिखित सर्वप्रथम काव्य ग्रंथ -श्रीधर पाठक द्वारा अनुवादित( हरमिट)-एकांतवासी योगी
26. खड़ी बोली के प्रथम स्वच्छंदतावादी कवि- श्रीधर पाठक

27. खड़ी बोली का प्रथम महाकाव्य -प्रियप्रवास- हरिऔंध
28. गीतिकाव्य शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग -लोचन प्रसाद पांडेय ने कुसुमनमाला की भूमिका में

29. छायावाद की प्रथम कृति -झरना 1918 प्रसाद
30. शुक्लानुसार छायावाद का प्रथम प्रतिनिधि कवि- पंत

31. मुक्तछंद का प्रथम प्रयोगकर्ता -निराला -जूही की कली में
32.निराला की प्रथम कविता -जूही की कली -1916

33. प्रयोगवाद शब्द का प्रथम प्रयोग -नंददुलारे वाजपेई
34.नई कविता नाम दिया -अज्ञेय ने

35. अज्ञेय की प्रथम काव्य कृति -भग्न दूत 1933
36. प्रेमचंद का प्रथम उपन्यास- प्रेमा अर्थात दो सखियों का विवाह 1907 हम खुर्मा व हम सवाब का हिंदी रुपांतर

37. हिंदी का प्रथम उपन्यास -परीक्षा गुरु लाला श्रीनिवास दास कृत
38. प्रेमचंद का मूल रूप से हिंदी में लिखित प्रथम उपन्यास -कायाकल्प 1926

39 जैनेंद्र का प्रथम उपन्यास-परख 1929
40. इलाचंद्र जोशी का प्रथम उपन्यास -घृणामयी 1929

•──────────────────────•
💐❣ कुछ नए और उपयोगी तथ्य जो गाइडों में नहीं मिलेंगे। किन्तु परीक्षा में आएंगे 💐❣

🌶जीवनीपरक आलोचना 'महाप्राण निराला' एवम 'महीयसी महादेवी' किसने लिखी - गंगाप्रसाद पांडेय

🍓'छायावाद के आधार स्तंभ' नामक पुस्तक किसकी है - गंगा प्रसाद पांडेय

🥒जवाहर लाल  : एक मध्य बिंदु, नेहरू जी : विचार और व्यक्तित्व, नेहरू की काव्यानुभूतियाँ नामक निबन्ध किसने लिखे - शांतिप्रिय द्विवेदी

🥦छायावाद को "करुणा की छाया में सौंदर्य के माध्यम से व्यक्त होने वाला भावात्मक सर्ववाद" किसने कहा - महादेवी वर्मा

🍇अरविंद दर्शन एवम अंतश्चेतनावाद का प्रभावी विश्लेषण पन्त के किस भूमिका में प्रकट होती है - उत्तरा की

🍐किस छायावादी कवि ने कविकर्म को आध्यात्मिक कर्म बताया है - जयशंकर प्रसाद

🥬"नयी कविता यदि अनुभूति को आधार मानकर चलती है तो रस से उसकी मुक्ति नहीं है" किस आलोचक का कथन है - डॉ नागेंद्र

🍎"उर्मिला के विरह में मानवता की पुकार  है - यह अधिक स्वाभविक है। साथ ही गरिमा की न्यूनता नहीं है, वह विश्वव्यापी है" कथन किसका है - डॉ नगेन्द्र

🍊सुमित्रानंदन पंत आलोचना के क्षेत्र में किसकी पहली पुस्तक है - डॉ नगेन्द्र

🍑"सूरदास की राधा केवल विलासिनी नहीं है। श्री कृष्ण के साथ उनका केवल युवा काल का सम्बंध नहीं है, वे परकीया नायिका भी नहीं है" कथन किस आलोचक का है - हज़ारी प्रसाद द्विवेदी

🥭"साहित्य समीक्षा अंततः विचार जगत की वस्तु है" - नन्द दुलारे वाजपेयी


•──────────────────────•
1.आचार्य शुक्ल ने आदिकाल में देशभाषा काव्य में कितनी पुस्तकों की संख्या मानी है~~8

2.” जनता की चित्तवृत्ति का संचित प्रतिबिंब ही साहित्य हैं “यह माना है~~ शुक्ल

3.” भाषा सर्वेक्षण “के रचयिता है~~ जॉर्ज ग्रियर्सन

4. पृथ्वीराज रासो कितने प्रकार के छंदों में लिखा गया है~~68

5. उपदेश रसायन रास के रचयिता है~~ जिनदत्त सूरी

6.पृथ्वीराज रासो काव्य किस कोटि का है~~वीरगाथा महाकाव्य

7.”हिंदी साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास ” ग्रंथ के लेखक है~~ रामकुमार वर्मा

8.इतिहास लेखन की सबसे विकसित पद्धति है ~~विधेयवादी पद्धति

9. विद्यापति ने कीर्तिलता को किस संवाद रूप में लिखा है ~~भृंग-भृंगी

10.” राठौड़ा री ख्यात” के रचयिता है ~~दयालदास

11. नाथों में “रसायनी” कौन थे ~~नागार्जुन

12. कविराज श्यामलदास तथा काशी प्रसाद जायसवाल ने रासो की उत्पत्ति मानी है~~ रहस्य से

13. “आध्यात्मिक रंग के चश्मे आजकल बहुत सस्ते हो गए हैं उन्हें चढ़ाकर कुछ लोगों ने गीतगोविंद के पद्यों को आध्यात्मिक संकेत बताया है वैसे ही विद्यापति के पद्यों को भी”- पंक्ति है ~~आचार्य शुक्ल

14.काफिर बोध, पंचअग्नि, दयाबोध,अष्ट चक्र व रसराह ग्रंथ है ~~गोरखनाथ

15. कयमास वध किस रचना का खंड है~~ पृथ्वीराज राज
•──────────────────────•
16.उक्ति व्यक्ति प्रकरण के रचयिता है~~ दामोदर शर्मा

17. “मनहुं कला ससीभान कला सोलह सो बनिय “- पंक्ति है~~ चंदबरदाई

18. “राउलबेल”श्रृंगार परक चंपू काव्य के रचयिता है ~~रोडा कवि
 
19. अपभ्रंश भाषा का प्रथम कवि माना जाता है ~~स्वयंभू

20. स्वयं को ‘अभिमान मेरु’ कहा करते थे~~ पुष्पदंत

21. आदिकाल को संधिकाल एवं चारण काल किसने कहा ~~रामकुमार वर्मा

22. बौद्ध सिद्धों के पदों और दोहों को ‘ बौद्धगान ओ दोहा’ नाम से बांग्ला भाषा मे प्रकाशित किया~~ पंडित हरप्रसाद शास्त्री

23. किरान- उस- सादेन रचना है ~~अमीर खुसरो

24. ‘पुरुष परीक्षा’ किसकी संस्कृत में रचित रचना है~~ विद्यापति

25. रिठेमणि चरिउ के रचयिता है~~ स्वयंभू 

26. कीर्तिलता की भाषा है ~~अवहट्ट

27.भू- परिक्रमा के रचयिता है ~~विद्यापति

28. जयमयंक जस चंद्रिका के रचयिता है~~ मधुकर कवि

29. इयाश्रय काव्य की रचना की है~~ हेमचंद्र

30. ‘कुमारपाल प्रतिबोध’ गद्य पद्य में प्राकृत काव्य लिखा है~~ सोमप्रभ सुरि
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

💐❣ सुपरफास्ट वन लाइनर : हिन्दी साहित्य
•──────────────────────•
31. गोरखनाथ में किसके योग का सहारा लेकर ‘हठयोग’ का प्रवर्तन किया~~ पतंजलि

32. ‘रत्नाकर जोपम कथा’ किस संप्रदाय का मानक ग्रंथ है~~ सिद्धों का
33.” जिमि लोण बिलिज्जई पाणी एहि तिमि धरणी लई चित्त” कथन है ~~कणहप्पा

34. “गंगा जऊना माझे बहई रे नाइ”है- उक्ति है~~ डोम्भीपा

35. “काआ तरुवर पंच बिड़ाल” उक्ति है~~ लुइपा
36. सिद्धों में सबसे पुराने माने जाते हैं~~ सरहपा

37. अपभ्रंश नाम पहले-पहल किस के शिलालेख में मिलता है~~ वल्लभी राजा धारसेन द्वितीय

38. “उस समय जैसे ‘गाथा’ या ‘गाहा’ कहने से प्राकृत का बोध होता था वैसे ही दोहा या दूहा कहने से अपभ्रंश का” कथन के लेखक है~~ रामचंद्र शुक्ल

39. ‘देशी नाममाला’ किसकी रचना है~~ हेमचंद्र

40. हजारी प्रसाद द्विवेदी, विश्वनाथ प्रसाद मिश्र तथा चंद्रबली पांडेय ने रासो की उत्पत्ति मानी है~~ रासक
41. हरप्रसाद शास्त्री ने रासो की उत्पत्ति मानी है~~ राजयश

42.आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने रासो की उत्पत्ति मानी है ~~रसायण
43. पृथ्वीराज रासो की रचना विधान में सर्वाधिक विवादास्पद पक्ष है~~ ऐतिहासिकता

44. ‘कन कंड चरिउ’ के रचयिता है~~ कनकामर मुनि
45.’प्राकृत प्रकाश’ के रचयिता ~~वररुचि
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

💐❣ सुपरफास्ट वन लाइनर : हिन्दी साहित्य
•──────────────────────•
1.  “बागबां आया गुलिस्ता में कि सैय्याद याद, जो भी आया मेरी जान को जल्लाद आया” भारतेंदु ने यह पंक्ति अपने किस निबंध में लिखें - बादशाह दर्पण

2.   ‘प्रेमचंद आत्मा के शिल्पी हैं’ ऐसा मानने वाले विद्वान थे - मुक्तिबोध

3.   मुंशी प्रेमचंद की  वे कहानियां जिनमें पशु पक्षियों को विशेष रूप से चित्रित किया गया है - गोदान और मुक्ति धन - गाय, स्वत्व रक्षा - घोड़ा, आत्माराम - तोता, दो बैलों की कथा - बैल, पूस की रात - कुत्ता, नादान दोस्त - चिड़िया 

4.   उन दो पाश्चात्य विद्वानों के नाम बताइए जो हिंदी के पक्ष विपक्ष में खड़े दिखते हैं - फ्रेडरिक पिन्काट-गार्सा द तासी

5.   आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने मैथिलीशरण गुप्त को किस प्रकार का कभी बताया - सामंजस्यवादी
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

❣💐 हिंदी साहित्य के महत्वपूर्ण प्रश्न❣💐
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
🔰 आधुनिक काल मे हालावाद स्पेशल 🔰

1- “व्यक्तिवादी काव्य” या “वैयक्तिक कविता” के नाम से जाना जाता है ?
⇒ हालावाद

2- “इस काव्य में समग्रतः एवं संपूर्णतः वैयक्तिक चेतनाओं को ही काव्यमय स्वरों और भाषा में संजोया गया है।” यहाँ किस काव्य के बारे में कहा गया है ?
⇒ हालावादी काव्य के बारे में

3- “नव्य-स्वछंदतावाद” के नाम से जाना जाता है ?
⇒ हालावाद

4- “उन्मुक्त प्रेमकाव्य” या “प्रेम व मस्ती के काव्य” के नाम से जाना जाता है ?
⇒ हालावादी काव्य

5- “इसमें अपनी ही मस्ती, अल्हड़ता एवं अक्खड़ता है।” किसमें ?
⇒ हालावादी काव्य में

6- हालावादी काव्य पर किसका प्रभाव है ?
⇒ फारसी साहित्य का / उमरखैयाम का

7- “क्षयी रोमांस का कवि” कहा जाता है ?
⇒ हरिवंश राय बच्चन को

8- “प्रेम और रोमांस का कवि” कहा जाता है ?
⇒ रामेश्वर शुक्ल अंचल को

9- मांसलवाद के प्रवर्तक माने जाते है ?
⇒ रामेश्वर शुक्ल अंचल

10- “इनके काव्य में रोमांस तो है लेकिन निराशा और दुःख जनित।” किसके बारे में कहा गया है ?
⇒ नरेन्द्र शर्मा के

11- हालावाद के प्रवर्तक माने जाते है ?
⇒ हरिवंश राय बच्चन

12- हालावाद का समय काल माना जाता है ?
⇒ 1933 से 1936

13- हालावादी कविता को “वैयक्तिक कविता” किसने कहा है ?
⇒ डा नगेन्द्र ने
 
14- “वैयक्तिक कविता छायावाद की अनुजा और प्रगतिवाद की अग्रजा है।” कथन किसका है ?
⇒ डॉ. नगेन्द्र का

15- हालावादी काव्य को “मस्ती, उमंग और उल्लास की कविता” किसने कहा है ?
⇒ हजारी प्रसाद द्विवेदी ने
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

💐❣ सुपरफास्ट वन लाइनर : हिन्दी साहित्य
•──────────────────────•
46. ढोला मारु रा दुहा के रचयिता~~ कुशललाभ

47. सबसे पहले बारहमासा वर्णन किस रचना में मिलता है ~~बीसलदेव रासो 

48. आदिकाल को अपभ्रंश काल कहा ~~धीरेंद्र वर्मा

49. बारह बरीस लौ कूकर जीवे, और तेरह लौ जिये सियार।
बरिस अठारह छत्री जीवे, आगे जीवन को धिक्कार।। उक्त पंक्ति है~~जगनिक

50. आदिकाल को ‘बीजवपन काल’ कहा है~~महावीर प्रसाद द्विवेदी

51. दोहाकोश किसकी रचना है ~~सरहपा

52. मैथिल कोकिल कहे जाते हैं ~~विद्यापति

53.रणमल छंद की रचना की~~ श्रीधर

54. आल्हाखंड नाम से कौन सी रचना प्रसिद्ध है~~ परमाल रासो

55. “पद्मावती समय” किस रचना का खंड है~~ पृथ्वीराज रासो

56. राजमती और बीसलदेव की कथा किस ग्रंथ में है~~ बीसलदेव रासो

57.वर्ण रत्नाकर ग्रंथ के रचयिता है~~ ज्योतिरीश्वर

58. नाथ- संप्रदाय के रचयिता है~~ हजारी प्रसाद द्विवेदी

59. शिलांकित चंपू गेय काव्य रचना है~ राउलबेल

60. दो सुखने, खलिकबारी आदि रचनाएं हैं~ अमीर खुसरो
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

💐❣ सुपरफास्ट वन लाइनर : हिन्दी साहित्य
•──────────────────────•
6.   मैथिलीशरण गुप्त की कौन सी रचना अतुकांत है - मेघनाथ वध

7.   मैथिलीशरण गुप्त की किस रचना में जोधपुर के राजपूत सरदार की 3 पीढ़ियों तक चलने वाली कथा है, जिसमें वचन निभाने की परंपरा का वर्णन है - विकट भट

8.   मैथिलीशरण गुप्त ने कौन से दो महाकाव्य लिखे - साकेत और जय भारत

9.   हिंदी के किस कवि को भारतेंदु युग-द्विवेदी युग को जोड़ने वाला कवि कहा जाता है - मैथिलीशरण गुप्त

10.   ‘अनल कवि’ के नाम से विख्यात कवि हैं - रामधारी सिंह दिनकर
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

❣💐 हिंदी साहित्य के महत्वपूर्ण प्रश्न❣💐
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
🔰 आधुनिक काल मे हालावाद स्पेशल 🔰

16- हालावादी कविता का प्रबल भाव है ?
⇒ वैयक्तिकता का

17- “निराशावादी कवि” कहा जाता है ?
⇒ हालावादियों को

18- “व्यक्तिवादी कविता का प्रमुख स्वर निराशा का है, अवसाद का है, थकान का है, टूटन का है, चाहे किसी भी परिप्रेक्ष्य में हो ।” कथन किसका है ?
⇒ डॉ. रामदरश मिश्र का

19- व्यक्तिवादी गीति कविता की सभी प्रवृत्तियाँ ( प्रेम, निराशा, वेदना, सामाजिक चेतना ) किसके काव्य में लक्षित होती है ?
⇒ आरसी प्रसाद सिंह के

20- “अशरीरी प्रेम के स्थान पर शरीरी प्रेम को इन्होंने तरजीह दी है।” किन्होंने तरजीह दी है ?
⇒ हालावादी कवियों ने

21- “मूलतः प्रेम यौवन और सौन्दर्य के कवि” माने जाते है ?
⇒ रामेश्वर शुक्ल अंचल

22- हालावादी काव्य को “क्षयी रोमांस और कुण्ठा का काव्य” किसने कहा है ?
⇒ डॉ. हेतु भारद्वाज ने

23- हालावाद प्रचलित कब से हुआ ?
⇒ बच्चन की मधुशाला से

24- किसकी रचनाओं में आत्मसंदेह और मृत्यु भय की भावना सर्वाधिक पाई जाती है ?
⇒ हरिवंश राय बच्चन की

25- बच्चन की रचना त्रय में शामिल है ?
⇒ मधुशाला, मधुबाला और मधुकलश

26- छायावाद का “दूसरा उन्मेष” कहलाता है ?
⇒ उत्तर छायावाद

27- उत्तर छायावाद को छायावाद का दूसरा उन्मेष किसने कहा ?
⇒ हजारी प्रसाद द्विवेदी ने

28- उत्तर छायावाद में कितने प्रकार की काव्यधाराएँ विकसित हुई ?
⇒ दो प्रकार की ( 1- राष्ट्रीय 2- वैयक्तिक )

29- उत्तर छायावाद को “स्वछन्द काव्य धारा” किसने कहा ?
⇒ आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने

30- गणपतिचन्द्र गुप्त ने उत्तर छायावाद को कितनी काव्यधाराओं में बांटा है ?
⇒ 3 में ( 1- राष्ट्रीय चेतना प्रधान 2- व्यक्ति चेतना प्रधान 3- समष्टि चेतना प्रधान )
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

💐❣ सुपरफास्ट वन लाइनर : हिन्दी साहित्य
•──────────────────────•
61. प्राण-संकली,सबदी, नरवैबोध, आत्मबोध और पंचमात्रा रचनाएं हैं~~ गोरखनाथ
62.गोरखनाथ की रचनाओं को ‘गोरखबानी’ नाम से संपादित किया ~~ पीतांबर दत्त बड़थ्वाल
63.”पुस्तक जल्हण हत्थ दै, चलि गज़्ज़न नृज काज” पंक्ति है~~ जल्हण

64. ‘चन्द हिंदी के प्रथम महाकवि माने जाते हैं और इनका पृथ्वीराज रासो हिंदी का प्रथम महाकाव्य है’ कथन के लेखक है ~~ आचार्य शुक्ल
65.’पृथ्वीराज रासो’ को डॉक्टर श्यामसुंदर दास, मोहनलाल विष्णु लाल पंड्या, मिश्र बंधुओं एवं कर्नल टॉड मानते हैं~~ प्रामाणिक
66.हजारी प्रसाद द्विवेदी, मुनि जिन विजय, सुनीति कुमार चटर्जी आदि ‘पृथ्वीराज रासो’ को मानते हैं~~ अर्धप्रमाणिक

67.पृथ्वीराज रासो में कितने सर्ग या समय है~~69
68.”बज़्ज़िय घोर निसान रान चौहान चहुँ दिसि” पंक्ति है~~ चंदबरदई

69. संदेश रासक किस प्रकार का काव्य है~~ खंडकाव्य
70. पृथ्वीराज रासो को पूरा किया था~~ जल्हण ने
71.’परमात्म-प्रकाश’ और ‘योगसार’ किसकी रचना है~~ जोइंदु
72. पाहुड़दोहा के रचयिता है~~ मुनि रामसिंह
73. सरहपाद,सरोजवज्र व राहुलभद्र आदि नामों से कौन जाना जाता है~`सरहपा

74.अक्षरद्विकोपदेश,डोम्बिगीतिका व योगचार्य किसकी रचनाएं हैं~~डोम्बिपा
75. ‘श्रावकाचार’ व दब्ब-सहाव-पयास, लघुनयचक्र और दर्शनसार ग्रन्थ है~~देवसेन
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

💐❣ सुपरफास्ट वन लाइनर : हिन्दी साहित्य
•──────────────────────•
11.   “धन्य भूमि भारत सब रतननि की उपजावनि” किसने लिखी है - राधा कृष्ण दास

12.   भारतेंदु जी ने अपनी किस कविता में विदेशी वस्तुओं के बहिष्कार की प्रत्यक्ष रूप से प्रेरणा दी है - प्रबोधिनी कविता

13.  “जो विषया संतन तजी  का ही मुंह लगता है जो निर्धारित वमन करी स्वान स्वाद स्वाद पंक्ति किसने लिखी है - राधा कृष्ण दास 

14.  रामदरश मिश्र के उपन्यास बीच समय में मुख्य समस्या किसकी उठाई गई है - अनमेल विवाह की त्रासदी

15.  उपन्यास ‘सात घरों का गांव’ जिसे ठाकुर प्रसाद सिंह ने लिखा है में किस गांव का जिक्र है - मिर्जापुर के वाघमारा गांव 
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

❣💐 हिंदी साहित्य के महत्वपूर्ण प्रश्न❣💐
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
🔰 आधुनिक काल मे हालावाद स्पेशल 🔰

31- हालावाद को “प्रगति प्रयोग का पूर्वाभास” किसने कहा है ?
⇒ डॉ. बच्चन सिंह ने

: 32- हरिवंश राय बच्चन का जन्म कब हुआ था ?
⇒ 1907 ई

33- हरिवंशराय बच्चन रचित प्रथम काव्य संग्रह है?
⇒ मधुशाला ( रचना 1933, प्रकाशन 1935 ई )

34- हरिवंशराय बच्चन का प्रथम प्रकाशित काव्य संग्रह है ?
⇒ तेरा हार

35- उमर खय्याम की रुबाईयों का अनुवाद किसने किया ?
⇒ हरिवंश राय बच्चन ने

36- बच्चन को किस कृति के लिए “साहित्य अकादमी पुरस्कार” मिला ?
⇒ “दो चट्टाने” के लिए

37- बच्चन की आत्मकथा कितने खण्डों में प्रकाशित है ?
⇒ चार खण्डों में

1. क्या भूलू़ँ क्या याद करूँ
2. नीड़ का निर्माण फिर
3. बसेरे से दूर
4. दशद्वार से सोपान तक

38- “निशा निमंत्रण” में संकलन है ?
⇒ गीतों का

39- “निशा निमंत्रण” का प्रकाशन वर्ष है ?
⇒ 1938 ई

40- “निशा निमंत्रण” के गीत कितनी कितनी पंक्तियों में रचित है ?
⇒ 13 – 13 पंक्तियों में

41- “निशा निमंत्रण” का प्रथम गीत कौनसा है ?
⇒ दिन जल्दी जल्दी ढलता है

42- “मधुशाला” में संकलित रुबाईयों की संख्या कितनी है ?
⇒ 135

43- “मधुशाला” की रुबाईयां कितनी कितनी पंक्तियों में रचित है ?
⇒ 4 – 4 पंक्तियों में

44- “मधुशाला की मादकता अक्षय है” कथन किसका है ?
⇒ पंत का

45- ” मधुशाला में हाला, प्याला, मधुबाला और मधुशाला कीके चार प्रतीकों के माध्यम से कवि ने अनेक क्रांतिकारी, मर्मस्पर्शी, रागात्मक एवं रहस्यपूर्ण भावों को वाणी दी है।” कथन किसका है ?
⇒ पंत का

45- बच्चन की रचना त्रय नाम से जानी जाती है?
⇒ मधुशाला, मधुबाला और मधुकलश प्राइवेट
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
📲 Join Us :    👇      👇
♦️ @Hindi_Sahitya
🔹 @StudyforHindiSahitya

No comments:

14 May 2021 Current Affairs