Tuesday, May 4, 2021

हर्यंक वंश के महत्वपूर्ण शासक Important rulers of Haryanka dynasty

🧿 हर्यंक वंश के महत्वपूर्ण शासक 🧿
============================

✅ बिम्बिसार (544-492 ई.पू.)

🔹 बिम्बिसार 544 ई.पू. में हर्यंक वंश का राजा बना।
🔹 बिम्बिसार ने हर्यंक वंश की स्थापना की और राज्य के विस्तार के लिए जिम्मेदार था।
🔹 बिम्बसार भगवान महावीर के समकालीन और बुद्ध के संरक्षक थे।
🔹 बौद्ध शास्त्रों के अनुसार, राजा बिम्बिसार बुद्ध के ज्ञानोदय से पहले पहली बार बुद्ध से मिले थे।
🔹 जैन साहित्य के अनुसार, उन्हें राजगृह का राजा श्रेनिका कहा जाता था।
🔹 बिम्बिसार ने वैवाहिक गठबंधन और विजय के माध्यम से अपने राज्य को मजबूत किया।
🔹 हर्यंक वंश की राजधानी राजगृह थी।
🔹 बिम्बिसार ने अवंती के राजा, राजा प्रदीता के चिकित्सा उपचार के लिए चिकित्सक जीवाका को उज्जैन भेजा।
🔹 बिम्बिसार की तीन पत्नियाँ थीं, कोसल देवी, चेलना और खेमा।
🔹 बिम्बिसार को उसके पुत्र अजातशत्रु ने कैद कर लिया और मार डाला।


✅ अजातशत्रु (492-460 ई.पू.)

🔹 अजातशत्रु बिम्बिसार और चेलना के पुत्र थे। वह 492 ई.पू. में सिंहासन पर चढ़ा।
🔹 अजातशत्रु ने 492 ईसा पूर्व से 461 ईसा पूर्व तक शासन किया।
🔹 अजातशत्रु को कुनिका के नाम से भी जाना जाता था।
🔹 अजातशत्रु ने वज्जियों / लिच्छवियों के खिलाफ युद्ध में संघर्ष किया लेकिन उन्हें हराने में कामयाब रहे।
🔹 अजातशत्रु ने विजय और विस्तार की नीति का अनुसरण किया।
🔹 मगध उनके शासनकाल में उत्तरी भारत में सबसे शक्तिशाली राज्य बन गया।
🔹 अजातशत्रु के शासनकाल के दौरान राजगृह में पहला बौद्ध युग्म आयोजित किया गया था।
🔹 अजातशत्रु ने लिच्छविस हमले से सुरक्षा के लिए राजगढ़ के चारों ओर एक बड़े किले का निर्माण किया।
🔹 अजातशत्रु की हत्या 461 ई.पू. में उसके पुत्र उदयिन ने किया।
🔹 उदयिन ने पाटलिपुत्र में नई राजधानी की स्थापना की।
🔹 उदयिन ने 461 ई.पू. से 444 ई.पू. तक शासन किया।
🔹 हर्यंक वंश का अंतिम शासक नागदशक था।

No comments: