Thursday, May 20, 2021

जयशंकर प्रसाद की विख्यात पुस्तक कामायनी पर विशेष Special on Jayashankar Prasad's famous book Kamayani

📚कामायनी पर विशेष : जयशंकर प्रसाद 📚

प्रकाशन वर्ष - 1935

कुल सर्ग - 15

सर्ग का क्रम - चिंता आशा श्रद्धा काम वासना लज्जा कर्म ईर्ष्या इडा स्वप्न संघर्ष निर्वेद दर्शन रहस्य आनंद 

अंगीरस - शांत (निर्वेद)

मुख्य पात्र - मनु, श्रद्धा, इडा कुमार 

मुख्य छंद -  ताटक 

दर्शन - शैव 

प्रतीक - मनु - मन, श्रद्धा - हृदय, इडा - बुद्धि,कुमार - मानव 

सर्गों में विशेष छंद 
आल्हा छंद - चिंता सर्ग आशा सर्ग स्वप्न सर्ग निर्वेद सर्ग 

लावनी छंद - रहस्य सर्ग इडा सर्ग श्रद्धा सर्ग काम सर्ग लज्जा सर्ग 

रोला छंद - संघर्ष सर्ग 

सखी छंद - आनन्द सर्ग 

रूपमाला छंद - वासना सर्ग 

🎖पुरस्कार - मंगलाप्रसाद पारितोषिक 💐

🧓👵विद्वानों की राय इस कृति पर🧔👨‍🦳

"वर्तमान हिंदी कविता में दुर्लभ कृति" - हजारी प्रसाद द्विवेदी 

"विश्व साहित्य का आठवाँ काव्य " - श्याम नारायण 

"आधुनिक हिंदी कविता का रामचरित मानस" - रामनाथ सुमन 

"विराट सामंजस्य की सनातन गाथा" - विश्वम्भरनाथ मानव 

"आर्ष ग्रन्थ" - डॉ. नागेन्द्र 

"आधुनिक हिंदी काव्य का सर्वाधिक महत्वपूर्ण ग्रन्थ" - शुक्ल जी 

"मधुरस से सिक्त महाकाव्य" - रामरतन भटनागर 

"मानवता का रसात्मक इतिहास" - नन्द दुलारे वाजपेयी 

"कामायनी समग्रता में समासोक्ति का विधान लक्षित करती है" - डा. नागेन्द्र 

"इसकी अन्तेर्योजना त्रुटिपूर्ण और समन्वित प्रभाव की दृष्टि से दोषपूर्ण है" - शुक्ल जी 

"छायावाद का उपनिषद" - शांतिप्रिय द्विवेदी 

"फैंटेसी कृति" - मुक्तिबोध 

"एक क्म्पोजीसन" - रामस्वरूप चतुर्वेदी 

"यह अपने आप में चिति का विराट वपु मंगल है - डॉ. बच्चन सिंह 

📕📗कामायनी पर लिखे गये ग्रन्थ 📘📙

जयशंकर प्रसाद - नन्द दुलारे वाजपेयी 

कामायनी एक पुनर्विचार - मुक्तिबोध 

कामायनी का पुनर्मूल्यांकन - रामस्वरुप चतुर्वेदी 

No comments: